♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

जालंधर के थाना गोराया पुलिस में 63 किलो अफीम के साथ चार काबू, चाय पत्ती के साथ ला रहे थे खेप बॉक्स बनाकर छिपाई गई थी अफीम

जालंधर के थाना गोराया पुलिस ने मणिपुर की राजधानी इंफाल से नशा तस्करी के बड़े नेटवर्क को ध्वस्त कर 63 किलोग्राम अफीम समेत चार तस्करों को गिरफ्तार किया है। तस्करों के पास से दो ट्रक व ट्रैक्टर ट्रॉली मिली है। इसमें बॉक्स बनाकर अफीम छिपाई गई थी। पुलिस ने इस केस में पंजाब में पहली बार संशोधित कानून की धारा 31-ए लगाई है। इसमें फांसी की सजा का प्रावधान है। यह धारा हाल ही एनडीपीएस कानून में संशोधन के बाद शामिल की गई है। यह धारा उस केस में लगाई जाती है, जिसमें तस्कर सजा पूरी कर जेल से बाहर लौटता है तो फिर से तस्करी के धंधे में लिप्त हो जाता है।

एसएसपी मुखविंदर सिंह भुल्लर (ग्रामीण) ने बताया कि नशीले पदार्थों की तस्करी के खिलाफ विशेष अभियान के तहत एसपी मनप्रीत सिंह ढिल्लों की अगुवाई में नशे के खिलाफ ऑपरेशन चलाया जा रहा था। मुख्य अधिकारी पुलिस स्टेशन गोराया के नेतृत्व में चार नशा तस्करों को पुलिस टीम ने 63 किलोग्राम अफीम के साथ काबू किया, जो दो ट्रक और एक ट्रैक्टर ट्रॉली में इंफाल से अफीम लेकर आ रहे थे।

पत्रकारवार्ता में एसएसपी भुल्लर व एसपी मनप्रीत सिंह ढिल्लों ने बताया कि टीम ने कमालपुर गेट मेन जीटी रोड फिल्लौर से फगवाड़ा की ओर नाकाबंदी की थी। इंस्पेक्टर सुखदेव सिंह को मुखबिर ने मोबाइल फोन पर सूचना दी थी। आरोपियों में गुरप्रीत सिंह उर्फ गुरी निवासी गांव गिद्दी थाना दोराहा जिला लुधियाना, जरनैल सिंह, हरमोहन सिंह उर्फ मोहना निवासी गांव मनकी थाना समराला जिला लुधियाना और जगजीत सिंह उर्फ जीता निवासी ग्राम गिद्दी थाना दोराहा जिला लुधियाना शामिल हैं।

आरोपी इंफाल (मणिपुर) से चाय पत्ती के साथ अफीम की खेप ला रहे थे। आरोपियों ने ट्रॉली के दोनों टायरों के बीच बॉक्स में अफीम की खेप छिपा रखी थी। वे इसे अमृतसर के तस्करों को देने जा रहे थे। इंस्पेक्टर सुखदेव सिंह ने बताया कि एक ट्रक से 10 किलोग्राम, दूसरे ट्रक से 20 किलोग्राम बरामद हुई। यह अफीम तेल टैंकर के नीचे बॉक्स बनाकर छिपाई गई थी। इसी तरह ट्रैक्टर ट्रॉली के पिछले हिस्से में बने विशेष बॉक्स से 33 किलोग्राम अफीम बरामद की गई। जगजीत सिंह उर्फ जीता एक कुख्यात तस्कर है। उसको 2012 में गिरफ्तार किया गया था। वह चार साल की सजा काट चुका है और जेल से रिहा होने के बाद भी मादक पदार्थों की तस्करी कर रहा है।

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

[responsive-slider id=1811]

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275